करेंसी और कमोडिटी आउटलुक 2024: मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज

जब हम अगले वर्ष के बारे में बात करते हैं तो निश्चित रूप से ऐसे कई कारक है जो बाजार में तेजी प्रदान कर सकते है। जैसे कि मौद्रिक नीति में बदलाव के साथ-साथ, डॉलर इंडेक्स और आर्थिक डेटा बिंदुओं में उतार-चढ़ाव। इतनी आक्रामक दर बढ़ोतरी के बाद भी, बाजार सहभागियों की नजर मुद्रास्फीति संबंधी चिंताओं और फेड के कदम पर रहेगी। जैसा कि, हमने पहले ही सोने और चांदी की कीमतों पर दरों में कटौती का असर देखा है, तो अगर डेटा और मुद्रास्फीति से अन्यथा सुझाव देती है और फेड बाजार अपेक्षाओं के अनुसार रुख में ढील नहीं देता है, तो यह सुरक्षित-संपत्ति के लिए लाभ को सीमित कर सकता है। हालांकि, भू-राजनीतिक तनाव, डॉलर सूचकांक के कम होने, उच्च दर में कटौती की उम्मीद, धीमी वृद्धि की आशंका, ईटीएफ में प्रवाह, केंद्रीय बैंक गोल्ड बैंक की होड़, चीन में विकास और हरित प्रौद्योगिकी और संभावित रुपये के मूल्यह्रास के कारण जोखिम प्रीमियम बना रह सकता है।

करेंसी आउटलुक

जहां तक 2024 तक रुपये की बात है, घरेलू मोर्चे पर इसकी गति केंद्र के चुनावों और प्रवाह से प्रेरित होगी, जो कि इक्विटी और डेब्ट सेगमेंट में आकर्षित होंगे। अब जब भारत ने जेपी मॉर्गन बांड इंडेक्स में खुद को स्थापित कर लिया है, ऐसे में इसके 25 अरब डॉलर से अधिक के प्रवाह को आकर्षित करने की संभावना है। वैश्विक मोर्चे पर, फेड अपने चक्र को मजबूत बनाने के लिए चरम पर पहुंचने के करीब है और डॉट प्लॉट से पता चलता है कि फेड 2024 में दरों में तीन बार कटौती भी कर सकता है। जैसा कि फेड इस बात पर स्पष्ट करने में काफी मुखर रहा है कि आगे उनका दृष्टिकोण ‘डेटा-निर्भर’ होगा। 2024 में, अमेरिका अपने राष्ट्रपति चुनावों की तैयारी कर रहा है जो साल के अंत में होने वाला है और यह उन प्रमुख घटनाओं में से एक होने जा रहा है जो 2025 के लिए दिशा तय करेगा। जहां तक डॉलर इंडेक्स का सवाल है, हमें उम्मीद है कि गति थोड़ी नकारात्मक होगी, यह देखते हुए कि फेड अपने दृष्टिकोण में नरम रहेगा और यह अर्थव्यवस्था में घटत से शुरू होगा। हालांकि, आरबीआई के सक्रिय हस्तक्षेप से रुपये की अस्थिरता पर नियंत्रण रखा जा सकता है और हमें उम्मीद है कि यह 81.00 और 85.00 के दायरे में कारोबार करेगा।

कीमती मेटल आउटलुक:

सोने में ~13-15% YTD का लाभ दर्ज किया गया, चांदी में भी 8% YTD से अधिक की वृद्धि हुई है। भू-राजनीतिक तनाव, केंद्रीय बैंकों की कार्रवाई, डॉलर इंडेक्स और यूएस यील्ड में गिरावट और कुछ अन्य कारक है जिसकी वजह से बाजार में तेजी आई। मुद्रास्फीति को कम करने के उद्देश्य से केंद्रीय बैंक इस वर्ष ब्याज दरों में बढ़ोतरी को लेकर सक्रिय थे। केंद्रीय बैंकों की कार्रवाई के साथ-साथ, हमने इस वर्ष एक ‘ब्लैक स्वान’ घटना भी देखी, जिससे सुरक्षित-संपत्तियों के लिए जोखिम प्रीमियम बढ़ गया। आइए एक नजर डालते हैं कि पिछला साल कैसा था और 2024 में ऐसे कौन से कारक है जो कीमतों को प्रभावित कर सकते हैं।

बेस मेटल आउटलुक:

2023 में कमोडिटीज़ की शुरुआत बहुत सकारात्मक रही, जो कि 2021 और 2022 का एक अच्छा फॉलोअप था, हालांकि इस वर्ष का अंत जटिल गिरावट के साथ होने की अपेक्षा नहीं थी। चीन की फिर से खोलने की कहानी योजना के अनुसार नहीं चली, अर्थव्यवस्था में कई कमज़ोरियां हैं, विशेषकर संपत्ति क्षेत्र में। इस बीच, केंद्रीय बैंक की सख्ती और मजबूत अमेरिकी डॉलर ने कमोडिटी बाजारों को मजबूत विपरित परिस्थितियां प्रदान की है।

मेटल के लिए दृष्टिकोण काफी हद तक चीन पर निर्भर करता है, और कुछ क्षेत्रों में उठाव काफी आशाजनक लग रहा है जो मेटल्स की मांग के फिर से उठने का संकेत देता है। इसके अलावा, एलएमई बेस मेटल इन्वेंट्री हाल के महीनों में कई वर्षों के निचले स्तर से बढ़ी है, जिससे अल्पावधि में तंग बाजारों पर चिंताएं कम हो गई हैं, हालांकि ऐतिहासिक आधार पर, एक्सचेंज इन्वेंट्री अभी भी कठिन हैं।

2024 के लिए, ज्यादातर बेस मेटल बाजारों में आसानी से छोटे सरप्लस और घाटे के बीच झूलते रहने की उम्मीद है, ये इस बात पर भी निर्भर करता है कि मांग कैसी रहती है। अधिकांश धातुओं के लिए दीर्घकालिक बुनियादी सिद्धांतों और ऐतिहासिक रूप से तंग सूची से पता चलता है कि बड़े पैमाने पर संतुलित बाजारों के बावजूद, कुछ सकारात्मक बढ़त हो सकती है।

वर्ष की सकारात्मक शुरुआत के साथ एलएमई धातु की कीमतें काफी अस्थिर रही हैं, जिसके बाद वर्ष के अधिकांश समय में गिरावट आई और अंत में बेहतर रिटर्न मिला। वैश्विक मौद्रिक सख्ती, चीन के खराब प्रदर्शन ने विकसित अर्थव्यवस्थाओं पर असर डाला है। हालांकि, सहायक बुनियादी बातें, लंबे समय से चले आ रहे भू-राजनीतिक जोखिम और फेडरल रिजर्व द्वारा नरमी की उम्मीदों से पता चलता है कि मेटल बास्केट अगले साल उच्च स्तर पर रहेगी। मध्यम अवधि का रुझान आशाजनक लग रहा है क्योंकि हरित उद्योगों की मांग बढ़ती रहेगी।

Leave a comment